Government of India

Department of Atomic Energy

Indira Gandhi Centre for Atomic Research

भारत सरकार

परमाणु ऊर्जा विभाग

इंदिरा गांधी परमाणु अनुसंधान केंद्र

 

विशेष लेख

इंगांपअकें के बारे में

इंदिरा गांधी परमाणु अनुसंधान केंद्र की स्थापना वर्ष 1971 में भारत सरकार के परमाणु ऊर्जा विभाग के अधीन की गई है । 

     यह केंद्र फास्टर ब्रीडर रिएक्टर तकनीकी के विकास से संबंधित वैज्ञानिक अनुसंधान एवं उच्चस्तरीय अभियांत्रिकी के व्यापक अनेक शास्त्र विधाओं के कार्यक्रम में कार्यरत है। 

     अद्वितीय मिश्रित प्लूटोनियम यूरेनियम कार्बाइड ईंधन पर आधारित फास्ट ब्रीडर टेस्ट रिएक्टर जो कि विश्व में इस प्रकार का एकमात्र रिएक्टर है व कामिनी रिएक्टर जो कि विश्व में यू-233 द्वारा प्रचलित एक रिएक्टर है, सफलतापूर्वक प्रचालित किए जा रहे हैं।

     केंद्र में 500 मेगावाट क्षमता वाले प्रोटोटाइप फास्ट ब्रीडर रिएक्टर के डिजाइन का कार्य पूर्ण किया गया और निर्माण कार्य प्रगति पर है ।

डॉ. पी.आर. वासुदेव राव, निदेशक, इंगांपअकें

उद्देश्य
गतिविधियां
आईजीसी न्यूज़लेटर
आईजीसी वार्षिक रिपोर्ट
हमारी उपलब्धियां
संगोष्ठियां
ई-मेल एवं टेलीफोन डायरेक्टरी
न्यूज़ इंगांपअकें
अवाड्र्स 
सूचना अधिनियम
प्रकाशन

होमी जहाँगीर भाभा
कोई भी शक्ति, शक्तिहीनता के महंगी नहीं

 
गेप क्षेत्र
सतर्कता
सामाजिक लाभ

ऊर्जा सुरक्षा के लिए द्रुत रिएक्टर

आईबीएसए-नेनो

| बेंचमार्क | टेंडर | पेटेंट | टेक्नोलॉजी ट्रांसफर | भर्ती | आईजीसी वेव सर्वर  | प्रशिक्षण विद्यालय | जेआरएफ | इम्प्रेशन | कल्पाक्कम नेचर |

 

|  डिसक्लेमर  |  हाइपरलिंकिंग नीति |  कॉपीराइट नीति |  निजी नीति |  हमसे संपर्क करें | 

 

साइट का स्वामित्व व रख-रखाव करने वाले :

इंदिरा गांधी परमाणु अनुसंधान केंद्र,

परमाणु ऊर्जा विभाग, भारत सरकार.